Essay in hindi samay ka sadupyog. समय के महत्व पर निबंध 2019-01-09

Essay in hindi samay ka sadupyog Rating: 7,6/10 153 reviews

samay ka sadupyog essay in hindi

essay in hindi samay ka sadupyog

Mitchell, Dan Jurafsky elie cs. वह शारीरिक दृष्टि से कमजोर पड़ जाता है. आप तब भी काम करना ना छोड़े, जब वक्त और परिस्थतियाँ विपरीत होने लगे. इस अवस्था में ही व्यक्ति का भविष्य और उसकी नीव मजबूत करती हैं. यह बहुत जरुरी हैं, क्योंकि इससे जीवन व्यवस्थित हो जाता हैं.

Next

समय का महत्व पर निबंध। Samay ka Mahatva par Nibandh

essay in hindi samay ka sadupyog

अपने लक्ष्य की प्राप्ती के लिए मनुष्य को समय के महत्व को जानकर उसका सदुपयोग करना चाहिए. जो व्यक्ति समय की कद्र नहीं करता अथवा टाइम के मुताबिक स्वयं को चला नही पाता है वह बहुत पिछड़ जाता हैं. समय समर्थ है समय सर्वशक्तिमान है अतः शायद समय ही ईश्वर है और अगर नहीं है तो फिर ईश्वर से कुछ कम भी नहीं है। समय राजा को रंक और फकीर को सम्राट बना देता है समय गतिशील है और निरंतर बीत रहा है। गुजरा हुआ वक्त यानी समय फिर कभी नहीं लौटता। अतः जो समय की उपेक्षा करते हैं वे कदापि सफल नहीं हो सकते समय उन्हें ठुकराकर आगे बढ़ जाता है। सुख और दुःख भी समय के साथ आते-जाते हैं। जो समय का मूल्य समझकर उसका सम्मान करते हैं समय उनका मित्र बन जाता है। एक-एक भी क्षण कीमती है और समय नष्ट करना स्वयं की बरबादी को न्योता देने के समान है। उन्नति के इच्छुक कभी अपना समय व्यर्थ नहीं जाने देते अपितु वे एक-एक क्षण का सदुपयोग करते हैं। व्यर्थ के झगड़ो में कीमती वक्त बरबाद करने से बढ़कर मूर्खता कोई और नहीं है सीलिए किसी कवि ने कहा है- हमें अपना हर कार्य करने के लिए एक सुनिश्चित कार्यक्रम बना लेना चाहिए और फिर उसी के अनुरूप अपने कार्यों को संपन्न करने की कोशिश करनी चाहिए। कुछ लोग कभी भी अपना काम समय पर पूरा नहीं कर पाते हर वक्त वे समय की कमी का रोना रोते रहते हैं। यदि ऐसे लोगों की दिनचर्या पर ध्यान दिया जाए तो पता चलेगा कि वे अपना अधिकांश समय यूँ ही गप्पें हाँकने में बरबाद कर देते हैं। ऐसे लोग हमेशा लेट-लतीफ होते हैं। ये कभी भी अपने दफ्तर में समय से नहीं पहुँचते और हाँफते-काँपते दौड़ते-भागते इनके सबकाम हुआ करते हैं। इन्हें यात्रा पर जाना हो तो तैयारी में ही इतनी देर हो जाती है कि लगता है कि ट्रेन छूटकर ही रहेगी। कहीं किसी के घर किन्हीं से मिलना होतो ऐसे लोग देर से पहुँचकर दूसरों से नाहक प्रतीक्षा करवाते और उनका भी समय बरबाद करते हैं। ये यदि किसी को अपने यहाँ आमंत्रित करते हैं तो अतिथि के पहुँचने पर स्वयं नदारद होते हैं और बेचारे आगंतुक को मेजबान के आने का इंतजार करना पड़ता है। ऐसे लोग अपना आदर सम्मान गँवाकर समाज में अभिशप्त जीवन जीने के लिए बाध्य होते हैं। प्रकृति स्वयं समयबद्ध है। सूर्योदय और सूर्यास्त तक का समय निश्चित है। ऋतु-चक्र भी निश्चित है। उपग्रहों और ग्रहों की चाल और सीमाएँ तय हैं। संसार के किसी भी महापुरूष की जीवनी का अध्ययन करें तो हम पाएँगे कि उन्होंने हमेशा समय का सदुपयोग किया। विश्व के महानतम वैज्ञानिकों कलाकारो और साहित्यकारों की सफलता का रहस्य यही था कि समय के हर पल का उन्होंने सदुपयोग किया। हमें समय का सम्मान करना चाहिए। जो समय पर चुक जाते हैं वह बाद में हाथ मल-मलकर पछताने के सिवा और कुछ नहीं कर पाते। फिर पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत जैसी कहावते तथा गोस्वामी तुलसीदासकी पंक्ति का वर्षा जब कृषि सुखानी समय चूकि पुनि का पछतानी हमें चेतावनी देती-सी लगती है कि समय का सचेष्ट रहकर सदुपयोग करें। कुछ छात्र आवारगी और बदमाशियों में वक्त गुजारते एवं अश्लील पुस्तकों में ध्यान लगाते हैं तथा समय बीत जाने पर परीक्षा के भूत से डरे-घबराए फिरते हैं। कुछ तो ऐसे आलसी होते हैं कि उनके लिए नहाना-धोना सोना-जागना या खाना-पीना कुछ भी समय पर करना कठिन होता है। ऐसे लोगों में किस्म-किस्म की बीमारियाँ घर कर लेती हैं और उनका जीवन नर्क बन जाता है। कुछ लोग अति उत्साही होते है और एक ही साथ कई कामों को करने की जिम्मेदारी उठा लेते हैं। नतीजा ये होता है कि उनका कोई काम नहीं सधता और वे अपमानित होते हैं। सफलता के लिए जरूरी है कि आप एक बार में एक ही काम हाथ में लें और उसे पूरे मनोयोग से पूरा करने की कोशिश करें। इस प्रकार एक-एक करके एक ही व्यक्ति कई सारे कामों को करने में सफल हो जाता है और ऐसे व्यक्ति के जीवन में असफलता पास नहीं फटकती। कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें कामचोर कहा जा सकता है। ऐसे लोग काम से जी चुराते हैं। और यदि काम सिर पर आ जाए तो उससे कन्नी कटाना चाहते हैं। काम से बचने के लिए वे बहाने ढूँढते रहतेहैं। सरकारी-गैर सरकारी दफ्तरों में भी ऐसे बहुत —से कर्मचारी है। इनके टाल-मटोल के कारण फाईलों का ढेर बढ़ता चला जाता है। फलस्वरूप महत्वपूर्ण निर्णय समय पर नहीं लिए जा पाते हैं। इससे देश का नुकसान होता है सरकार की किरकिरी होती है और आम जनता परेशान होती है। कार्य में सन्नद्ध होकर हम अपना भी भला कर सकते हैं और देश का भी। देश की युवाशक्ति निरर्थक आंदोलनों के जरिए धरना प्रदर्शन जुलूस और रैलियों का आयोजन करने में अपना समय व्यर्थ करती रहती है। तोड़-पोड़ और आगजनी के द्वारा राष्ट्रीय संपत्ति का नुकसान तो अब आम बात बनकर रह गई है। यदि यही शक्ति रचनात्मक कार्यों में लग जाए तो देशकी काया पलट जाए और हर ओर खुशहाली का साम्राज्य छा-जाएय़ यही प्रगति का मंत्र है। यदि देशका हर नगरिक कर्मठ हो और समय का सदुपयोग करे तो भारत को विकसित होने में अधिक समय नहीं लगेगा।. वास्तव में समयानुसार आवश्यक तथा उचित कार्यों को संपन्न करना ही समय का सदुपयोग है. समय के लिए समान है और समय कभी किसी की प्रतीक्षा नहीं करता. जो व्यक्ति विद्यार्थी जीवन में पढाई - लिखाई में मन नही लगाता , यौवन में धन न कमाता , वह बुदापे में कर ही क्या सकता है? समय के महत्व पर निबंध — Value Of Time Essay In Hindi एक बच्चा विद्यार्थी जीवन में जो कुछ अर्जित करता हैं, वहीँ उसके भविष्य की नीव मजबूत करता हैं. A Large Scale Evaluation Elie Bursztein, Steven Bethard, Celine Fabry, John C.

Next

Hindi Essay on “Samay Anmol Hai ” Ka , ” समय अनमोल है या समय का सदुपयोग ” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

essay in hindi samay ka sadupyog

I never graduated from college. वह अपने भावी जीवन को भी सुखमय बनावे. यही वह समय होता है, जब उसकी संस्कारशाळा प्रारम्भ होती हैं. बीता हुआ समय लौटकर नहीं आता, प्रसिद्ध लेखक प्रेमचन्द कहते थे ऐसी कोई घड़ी नहीं बन सकती जो गुजरे हुए घंटे को फिर से बना दे. वह दुनिया में काफी आगे बढ़ा है दोस्तों कहते हैं कि अगर कोई स्वादिष्ट फल खाने को मिल जाए और उसका स्वाद आप ना ले पाये तो इससे बुरा कुछ हो नहीं सकता इसी तरह से अगर आपके पास बहुत सारा समय है और उसको आप सही उपयोग नहीं कर रहे हो और उसको किसी ऐसे काम में लगा रहे हो जिस का कोई उपयोग नहीं है तो आप जिंदगी में कुछ भी नहीं कर पाओगे.

Next

समय का महत्व

essay in hindi samay ka sadupyog

अव्यवस्थित लोगों के कार्य कभी समय पर पूर्ण नहीं होते हैं. समय का सदुपयोग न करने वाला पछताता हैं, इसलिए कहा गया है, समय चुकि पुनि पछताने. यही आदत आपकों कामयाबी के शिखर तक ले जाएगी. इस अवस्था में प्रत्येक विद्यार्थी को समय का सदुपयोग करना चाहिए. न पहचान सकने वाला व्यक्ति विश्व-विजेता बनने के स्पप्र देखने वाले सीजन के समान ही अपने ही साथियों के हाथों मारा जाता है। ऐसा अनोखा महत्व होता है समय का। समय बीतने-बिताने का अर्थ जीवन व्यतीत करना भी है। एक सांस लेने के बहाने से हमारा यह अमूल्य समय यानी जीवन निरंतर बीता जा रहा है। बुद्धिमान लोग अपना कर्तव्य करते हुए इसके प्रत्येक पल-क्षण का सदुपयोग किया करते हैं, जबकि आलसी एंव मूर्ख व्यक्ति हाथ-पर-हाथ धरे आने वाले कल की योजना बनाने में ही समय एंव मूलधन को विनष्ट कर दिया करते हैं। समय तो धनुष से छूटने वाले उस अमूल्य बाण की तरह है कि लो एक बार छूटा कि गया। फिर लाख चाहने पर चेष्टा करने पर भी उसे किसी भी तरह खोज कर वापिस नहीं लाया जा सकता। बाद में उसे याद करके प्राय: व्यक्ति मन-ही-मन कहा करता है कि काश, मात्र एक बार मैं बीत चुके समय में पुन: जी सकता। परंतु ऐसा न तो कभी संभव हुआ और न ही हो सकता है। इस तथ्य का ध्यान रखना भी प्रत्येक व्यक्ति के लिए परम आवश्यक है कि एक-एक सांस व्यतीत होने का अर्थ है-जीवन का समय छिद्र वाले घड़े से टपकने वाले पानी के समान निरंतर कम होते जाने। यही सब सोचकर ही बुद्धिमान अध्यवसायी अपने समय का एक पल भी व्यर्थ नहीं जाने देते। सृष्टि का सबसे बुद्धिमान प्राणी मनुष्य ही है। उसे अपना समय प्रसंग में पड़, व्यर्थ के कामों में कभी भी व्यतीत नहीं करना चाहिए। व्यर्थ के कार्यों में पडक़र समय का एक पल भी गंवाना प्रलय को निमंत्रण देने के समान है। वही व्यक्ति वास्तव में समझदार है कि जो इन तथ्यों को देख-समझकर सारे कार्य किया करता है। दूसरी ओर जो व्यक्ति इन तथ्यों को देख-समझ नहीं पाते, वे बार-बार बल्कि हर पल में जन्मते और मरते रहते हैं। जब तक समय को पहचान कर्तव्य कर्म करके अपनी सारी इच्छांए पूरी नहीं कर लेते, तब तक उन्हें जन्म-मरण के चक्कर में पड़े रहना पड़ता है। चौरासी लाख योनियों में भटककर कष्ट सहने पड़ते हैं। इसी कारण कबीर जी ने समय का सदुपयोग करने की बात कही है। आज का काम कल पर न छोडऩे की प्रेरणा दी है। बिना समय का सदुपयोग कर काम पूरे किए मुक्ति नहीं हो सकती। इसलिए जो करना है, अभी शुरू कर दो। समय पर आने सारे काम करते रहने वाला वयक्ति न तो कभी असफल हुआ करता है और न उसे पछताना ही पड़ता है। उसके मन-मस्तिष्क पर कभी किसी प्रकार का बोझ पडक़र उसे तनावग्रस्त नहीं बनाता। जब तनाव नहीं, तो कहीं किसी भी प्रकार की बीमारी नहीं। स्वस्थ व्यक्ति का मन-मस्तिष्क भी स्वस्थ रहता है और इस प्रकार समय का सदुपयोग करने वाले को सारा जीवन आनंदमय हो जाया करता है। मनुष्य को प्रकृति और उसके भिन्न रूपों-प्रकारों से सीखना चाहिए कि समय का क्या महत्व होता है। समय पर आकर अपना कर्तव्य पूरा करके तन-मन कितने प्रफुल्लित हो जाया करते हैं। सूर्य-चांद ठीक समय पर उदय-अस्त होकर ही अंधकार मिटाकर संसार के छोटे-बड़े हर प्राणी और पदार्थ को उचित विकास और विश्राम दे पाते हैं। छह ऋतुएं अपने समय से कभी रत्तीभर भी इधर-उधर नहीं होती। इस कारण वे धरती को हरी-भरी रख सभी प्राणियों की सब प्रकार की आवश्यकतांए पूरी कर पाती हैं। वसंत ऋतु आने पर ही कोयल कूकती है। सुबह होते ही चहचहाते पक्षी अपना जीवन सफल करने उड़ जाते हैं और शाम ढलने के साथ उसी स्वर-लय में चहचाहाते हुए अपने घोसलों में लौट आते हैं। उनके मन में अपने समय का सदुपयोग करने का आनंद ही होता है कि जो उन्हें चहचहाने गाने के लिए मजबूर कर दिया करता है। यही आनंद हर व्यक्ति अपने समय का सदुपयोग करके सरला से पाल सकता है। याद रहे, समय ही वास्तव में जीवन है। समय खोने का सीधा-सादा अर्थ जीवन को खोना ओर व्यर्थ नष्ट करना है। यह बुद्धिमानी नहीं है। बुद्धिमानी इसी में है कि उचित समय पर अपना प्रत्येक कार्य करके उसका सदुपयोग करें। ताकि समय स्वंय नष्ट होकर हमें भी नष्ट न कर दें। हमें बाद में हाथ मल-मल कर पछताना न पड़े। वही आदमी बुद्धिमान तो समझा ही जाता है कि जो समय के साथ डग मिलाकर चला करता है, सफलता भी अवश्य पया करता है। जो व्यक्ति ऐसा कर पाने में समर्थ नहीं हो पाया करता, वह लगातार पिछड़ता तो जाता ही है, कभी ीाी सफलता का मुंह नहीं देाख् पाता। ऐसे व्यक्ति को दुनिया तो धिक्कारा ही करती हे। वह खुद अपने लिए भी एक जीवंत धिक्कार बन जाया करता है। वह एक प्रसिद्ध कहानी है न कछुए और खरगोश की? समय कीमती है और हर किसी के लिए अमूल्य है, इसलिए हमें कभी समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। हमें सकारात्मक ढंग से सही तरीके से समय का उपयोग करना चाहिए। हमें अपने बच्चों को बचपन से ही समय के महत्व या मूल्य के बारे में बताना चाहिए। आप बच्चों को समय की महत्ता या समय का मूल्य समझाने के लिए इस तरह के साधारण और सरल भाषा में लिखे गए समय के मूल्य पर निबंध या समय के महत्व पर निबंध का प्रयोग कर सकते हैं। हम स्कूल के विद्यार्थियों के प्रयोग के लिए भी बहुत से समय के मूल्य पर निबंध या समय के महत्व पर निबंध उपलब्ध करा रहे हैं। समय के मूल्य पर निबंध या समय के महत्व पर निबंध वैल्यू ऑफ़ टाइम एस्से Get here some essays on Value of Time in Hindi language for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words. स्वामी विवेकानंद विद्यार्थियों के लिए बहुत ज्ञान की बात कहते हैं. जो व्यक्ति इस काल का सदुपयोग न करके अन्य कार्यों में व्यस्त होता है वह अपने गृहस्त जीवन में असफल हो जाता है.

Next

समय का महत्व

essay in hindi samay ka sadupyog

समय को टालने वाला नासमझ माना जाता हैं. समय नष्ट करने से हानि-समय का उचित उपयोग न करने से जीवन में निराशा, असफलता, असंतोष और हानि ही हाथ लगती हैं. Copy the Hindi text into another text file. उन्हें जीवन में शान्ति मिलती है. जो व्यक्ति इस काल में समय का सदुपयोग करता है , उसका भावी जीवन संटक हीन बनाता है.

Next

समय का सदुपयोग हिंदी निबंध Samay ka sadupyog par nibandh

essay in hindi samay ka sadupyog

समाज में उनका आदर होता है. इसके मूल में एक ही बात है कि वैसे लोग भ्रष्टाचार के भागी बनते हैं जो अपना कार्य गलत तरीके से करवाना चाहते हैं। यह सब भारत जैसे विकासशील देशों में सरकारी कार्यालयों में सर्वाधिक दृश्टिगोचर होता है। लोगों द्वारा सरकारी कर्मचारियों तथा अफसरों को अपना काम जल्दी करवाने या गलत तरीके से… विज्ञान से लाभ या हानि जीवों में मानव ने सर्वाधिक प्रगति की है और आज समस्त ब्रह्मांड को अपने सन्मुख नतमस्तक कराया है। प्रकृति के गूढ़तम रहस्यों को जानने में मानव ने सफलता अर्जित की है। ये सभी विज्ञान और विज्ञान में मानव की दिलचस्पी से ही संभव हो पाया है। विज्ञान की प्रगति ने मानव में नवचेतना का संचार किया है। आज मानव मुश्किल से मुश्किल और अत्यन्त खतरनाक कामों को भी करने से नहीं कतरा रहा है। अब यह प्रश्न उठता है कि विज्ञान से लाभ हुआ है या हानि? जो व्यक्ति समय का सदुपयोग नही करता उसका जीवन नष्ट हो जाता है. संसार में जितने भी महापुरुष हुए हैं उनके जीवन की सफलता का रहस्य समय समय का सदुपयोग ही रहा हैं. Ye sanskar use bhavishya me bahut kimati hote hain. जीवन में उन्नति की कुंजी समय का सदुपयोग ही है. Always believe in hard work, where I am today is just because of Hard Work and Passion to My work. Paste it in the text box provided or upload the saved text file.

Next

समय का महत्व पर निबंध। Samay ka Mahatva par Nibandh

essay in hindi samay ka sadupyog

इससे व्यक्ति आलसी नहीं रहता हैं. अगर हमने उस समय का दुरुपयोग किया तो ये जिंदगी के लिए बहुत घातक साबित हो सकता है दोस्तों अगर हम स्कूल या कॉलेज टाइम में पढ़ाई करें और एक टाइम टेबल के साथ सब कुछ करें तो जिंदगी में हम बहुत कुछ कर सकते हैं जिंदगी में बहुत आगे बढ़ सकते हैं दुनिया में जिसने भी समय की वैल्यू को समझा है वह आज बहुत आगे है,इसलिए समय का सदुपयोग करना चाहिए क्योंकि समय ही है जो हमें उन उंचाइयों पर पहुंचा सकता है जिन् ऊंचाइयों पर पहुंचने के सपने देखते हैं. वह प्रत्येक काम उचित समय पर करने के लिए तैयार रहता हैं. दोस्तों हर इंसान की शुरुआत होती है स्टूडेंट लाइफ से. Using this method you can get essays or documents in any languageyou want. Maa is ek naam me hi bahut kuch samaya hai.

Next

समय के महत्व पर निबंध

essay in hindi samay ka sadupyog

यह याद रखिये कि जब जीवन में समय व्यवस्थित होता हैं तो हर बड़ी से बड़ी बाधा और समस्या को दूर किया जा सकता हैं. समय के महत्व पर निबंध- Essays on Value of Time in Hindi-हिन्दी निबंध — Essay in Hindi Here we are providing you this -essay in hindi- हिन्दी निबंध -समय के महत्व पर निबंध- Essays on Value of Time in Hindi -हिन्दी निबंध — Essay in Hindi which will help in hindi essays for class 4, hindi essays for class 10, hindi essays for class 9, hindi essays for class 7, hindi essays for class 6, hindi essays for class 8. मानसिक तथा शारीरिक पुष्टता से अपने को सक्षम बनाता है. } jamwaramgarh jaipur rajasthan 303109. Related: दोस्तों हम सभी को समय का सदुपयोग करना चाहिए हमको पढ़ाई की उम्र में पढ़ाई करना चाहिए और फिजूल के कामों की ओर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देना चाहिए एक समय होता सब कुछ करने का.

Next

समय का सदुपयोग

essay in hindi samay ka sadupyog

Bachhe ke janam se lekar uske jivan pravasme sabse pehele uski maa uska bahut khayal rakhti hai. Main agar bada hokar kahi dur chala jau tabbhi maa ke aashirvad mere saath honge. पर समय धन से भी अधिक कीमती है। खोया हुआ धन तो दोबारा पाया जा सकता है परन्तु एक बार जो समय बीत जाय वो वापस लौटकर नहीं आता। समय परिवर्तनशील है। परिवर्तन प्रकृति का नियम है। समय के परिवर्तन से कुछ भी मुक्त नहीं है। मनुष्य का जीवन क्षण-भंगुर होता है और कार्य ज्यादा और कठिन होते हैं। इसलिए हम अपने जीवन का एक भी मिनट बर्बाद नहीं कर सकते हैं। यहां तक की हर सांस, हर सेकेण्ड का भरपूर उपयोग किया जाना चाहिए। हमें विद्यालय सम्बन्धी कार्य, गृहकार्य, आराम करने का समय, मनोरंजन, व्यायाम इन सभी कार्यों को सही ढंग से योजनाबद्ध तरीके से करना चाहिए। हमें समय बरबाद नहीं करना चाहिए। वास्तव में कोई भी समय की खराब नहीं कर सकता। यह केवल हम ही हैं जी समय द्वारा बेकार कर दिए जाते हैं। समय की व्यवस्था होना बहुत जरुरी है। इतिहास के सभी महान लोगों ने अपने समय का एक-एक क्षण बहुत ही लाभदायक और व्यवस्थित तरीके से प्रयोग किया जिससे इतिहास में उनका नाम अमर हो गया। हमने महान आविष्कार किये हैं। आश्चर्यजनक चीजों की खोज की, तथा समय की धारा में अपने पदचिन्ह छोड़ दिए। वास्तव में खाली समय का भी सदुपयोग किया जा सकता है। खाली समय का उपयोग कुछ प्राप्त करने की चाहत व स्वस्थ अर्थपूर्ण रुचियों में किया जा सकता है। हम किताबें पढ़कर, संगीत सीखकर या कुछ और जरुरी काम करके समय बिता सकते हैं। बच्चों साथ खेलना, बगीचों में फूल लगाना या अपने खाली समय में कुछ भी करना सीख सकते हैं। समय को न तो रोका जा सकता है और न ही इस पर किसी का जोर चलता है और न ही समय को वापस लाया जा सकता है। समय शाश्वत एवं सर्वज्ञ है। इस प्रकार हमें समय का महत्त्व समझना चाहिए। अगर हम समय का सही उपयोग कर सकें तो समय ही सफलता की वास्तविक कुंजी है। इसकी कोई सीमा नहीं है लेकिन व्यक्तिगत तौर पर यह बहुत सीमित है।. इनके जीवन में समन्वय होता है. A passionate writer, writing content for many years and regularly writing for Hindikiduniya. वह केवल अशांति का शिकारी बनकर रह जाएगा. उसे रोकने की शक्ती भी किसी में नही है.

Next

समय का सदुपयोग पर निबंध

essay in hindi samay ka sadupyog

उसका भावी जीवन कठिनाइयों का शिकार हो जाता है. सावधानीपूर्वक समय का उपयोग न करने वाले को पछताना पड़ता हैं परन्तु उससे कोई लाभ नहीं होता. First find a suitable essay in English Google search. ऐसा व्यक्ति कोई भी काम ठीक प्रकार नही कर सकता. उसमे उचित कार्य क्षमता की भावना का अभाव होता है.

Next